• Mon. Sep 21st, 2020

हाथियों के लिए स्वर्ग कहे जाने वाले इस देश में हो रही है हाथियों की मृत्यु, सिर्फ 3 घंटे में 169 हाथी पाए गए मृत।

Photo by Oleg Magni from Pexels
Spread the love
Read Time:4 Minute, 35 Second

उत्तरी बोत्सवाना के ओकावांगो डेल्टा क्षेत्र में यह सभी हाथी मृत पाए गए हैं।यह 1700 किलोमीटर लंबी नदी अंगोला से निकल के नम्बिया के छोटे से रास्ते से हुए बोत्सवाना तक पहुंचती है। और यहीं पर जाकर यह नदी खत्म हो जाती है ।यह नदी समुंद्र में नहीं मिलती है जिसका कारण यह है कि बोत्सवाना का यह क्षेत्र बारिश के मौसम में बहुत ही ज्यादा दलदली हो जाता है और जानवरों का प्रिय क्षेत्र बन जाता है।

बोत्सवाना जोकि एक अफ़्रीकी महाद्वीप देश है यहां पर 356 हाथियों की मारे जाने की पुष्टि हुई है।यहां के सरकार के सरकारी आंकड़ों के हिसाब से अब तक 356 हाथियों के मृत होने की पुष्टि हुई है और यह संख्या आगे भी बढ़ सकती है।

IMAGE SOURCE BYPEXELS

बोत्सवाना अफ्रीका महाद्वीप के दक्षिणी हिस्से में स्थित है और इस देश की राजधानी है गाबोरोने। बोत्सवाना चारों तरफ से घिरा हुआ एक देश है। इस देश के पड़ोसी  देश है दक्षिण अफ्रीका, नांबिया, जिम्बावे और इस देश का कुछ हिस्सा जांबिया के साथ भी लगता है जो कि 1 किलोमीटर से भी कम है।

अफ्रीका महाद्वीप में हाथियों की संख्या बहुतायत में पाई जाती है। अक्सर डिस्कवरी चैनल पर दिखाए जाने वाले हाथियों की ज्यादातर डॉक्यूमेंट्री इसी क्षेत्र में फिल्माई जाती है। बोत्सवाना हाथियों के सरंक्षण के लिए खड़ा होने वाला देश है जिसके कारण पिछले कई सालों से यहां हाथियों की संख्या बहुत ज्यादा ही बढ़ी है। हाथियों के सर्वे करने वाले इस देश के सरकारी एनजीओ एलीफेंट विदाउट बॉर्डर ने अपनी 2016 की रिपोर्ट में हाथियों की संख्या लगभग 130000 से ज्यादा बताई थी।और हाथियों का स्वर्ग कहे जाने वाले वह ओकावंगो डेल्टा में ही सिर्फ 15,000 से ज्यादा हाथी है।

लेकिन हाथियों के लिए स्वर्ग कहे जाने वाला ओकावांगो डेल्टा आज इन्हीं के मृत्यु का कारण बना हुआ है। एलीफेंट विदाउट बॉर्डर के 25 जून को किए गए सर्वे के अनुसार सिर्फ 3 घंटे में ही 169 हाथियों के मृत पाए जाने की बात कही गई है।इस एनजीओ ने 25 मई को 169 और 14 जून को 187 हाथियों के मृत होने की रिपोर्ट सरकार को सौंपी।

एलीफेंट विदाउट बॉर्डर ने अपने सर्वे का विवरण देते हुए यह भी कहा कि अभी उनका सर्वे पूरा नहीं हुआ है और मृत हाथियों की संख्या और भी ज्यादा बढ़ सकती है । और जो बचे हैं उनकी भी हालत ठीक नहीं है या तो वह बहुत ही ज्यादा कमजोर हो गए हैं और कुछ हाथियों का तो दिमागी संतुलन भी खराब हो गया है।चुकी इस जगह पर कोई सड़क नहीं है इसी कारण यहां के सारे सर्वे हवाई जहाज से किए जाते हैं।

कुछ जानवरों के चिकित्सकों का मानना है की इनकी मृत्यु किसी वायरस के कारण हो सकती है या फिर किसी वायरस का इनके दिमाग में प्रवेश करना इनकी मृत्यु का कारण हो सकता है। हालांकि अभी तक इस बात की कोई पुष्टि नहीं हुई है कि इनकी मृत्यु कैसे हुई। मृत हाथियों के सैंपल जिंबाब्वे साउथ अफ्रीका और कनाडा में जांच के लिए भेज दिए गए है।

1 0
Happy
Happy
100 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *